Motivational stories in Hindi with moral - दुसरो को जज करना बंद करे।

Motivational stories in Hindi-दूसरो को जज ना करे 

गुस्से का सबसे बड़ा इलाज होता है मौन। अपने खिलाफ बातें आप खुशी से सुनते रहे चुप रहे यकीन मानिए, वक़्त आने पर बेहतरीन जवाब देगा।

शीर्षक :दूसरो को जज ना करे। 

एक छोटी सी कहानी आपको सुनाता हू।
Inspiration stories,motivational stories, how to motivate stories in hindi



एक बार एक पिता अपने 22 साल के बेटे के साथ मे स्टेशन पर पहुचे उनकी ट्रेन छूटने वाली थी, दौड़के उन्होने ट्रेन पकड़ा और जाकर ट्रेन मे बैठे।

तो बच्चे ने अजीब सी ज़िद की, 22 साल का लड़का ये ज़िद कर रहा है कि मुझे विंडो सीट पर बैठना है। 

अब आसपास के जो यात्री थे वो देख रहे थे कि बाप बेटे मे कुछ बातचीत चल रही है। बेटे को पिता ने कहा कि जरूर,आओ आके बैठ जाओ।

सामने वाली सीट पर एक महिला बैठी थी, अपने परिवार के साथ मे, उनके पति नीचे कुछ लेने के लिए गए हुए थे। सबलोग अपने अपने जगह पर बैठ गए।

ट्रेन चलने लगी तो बेटा जो था वो अजीब सी हरकत करने लगा, उसने अपने पिता से कहा वो देखो पापा गाड़ी पीछे जा रही है।

थोड़ी देर बाद बोला पापा वो देखो पेड़ पीछे जा रहे हैं,तो सामने वाली महिला ने सोचा हो सकता है है कि मजाक कर रहा हो।


थोड़ी देर बाद बोला कि वो देखो पापा बादल पीछे जा रहे हैं।


Inspiration stories,motivational stories, how to motivate stories in hindi

उस महिला ने अपने बैग मे से कुछ खाने को निकाला और उस लड़के के पापा से पूछा आप भी कुछ लेंगे?
इसी बहाने उनलोगों की बात होने लगी। इनसब के बीच महिला को लगा ये सही समय है पूछने का, उसने पूछ लिया। 

उसने कहा कि भाई साहब एक बात पूछूँ यदि आप बुरा ना माने तो,आप अपने बेटे को कही दिखा क्यु नहीं लेते, एक अच्छे डॉक्टर है जिन्हे मै जानती हूँ।

आप बोलो तो मै आपको बात करवा देती हूँ।
Inspiration stories,motivational stories, how to motivate stories in hindi



उस व्यक्ति ने जो कहा ध्यान से सुनिएगा,

उसने कहा कि मै इसे डॉक्टर के पास से ही ला रहा हूँ
ये बचपन से अंधा था।आज ही इसे आँखे मिली हैं।
Inspiration stories,motivational stories, how to motivate stories in hindi



निष्कर्ष :-

ये छोटी सी कहानी हमे यह बड़ी बात सिखाती है कि इस दुनिया में हर एक इंसान की अपनी कहानी है।
लोगों को जज करना बंद किजिये उन्हे प्यार करना शुरू कीजिए।

इसे भी पढ़े -the story of army


Post a Comment

0Comments