inspirational story in hindi for success -इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।

Inspiration story in hindi for success with moral


Short story of motivational  in hindi with moral - इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।


inspirational story in hindi for success -इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।
हर किसी के जिन्दगी में कभी ना कभी किसी ना किसी तरह की प्रॉब्लम आती है,
हो सकता है कि इन दिनों आपकी लाइफ में कुछ परेशानियां चल रही हो।


मै हूं अभी
www.themotivationhandbook.com से
आपके लिए एक शानदार कहानी लेकर आया हूँ।




एक बार की बात है एक सेठ जी और सेठानी जी के पास में बोलने वाला तोता था, और जब तोते का मूड होता था तो वो इंसान की आवाज में बात करता था।

har gaye to kya hoga 


सेठ जी और सेठानी जी जो थे बहुत ही भक्त टाइप के इंसान थे, हमेशा इन्हे भक्ति में मन लगा रहता था,
हर शाम को ये एक सत्संग में जाते थे।
inspirational story in hindi for success -इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।

एक बाबाजी के यहा जाते और सत्संग सुनके वापस आ जाते।
ye kahani aapke jiwan ko badal degi

एक दिन जैसे ही वो लोग सत्संग के लिए जा रहे थे तभी तोते ने सेठ जी को आवाज लगायी कि मालिक मेरा एक सवाल है, आज आप सत्संग में जा रहे हैं महाराज जी से पूछना जरूर।
मेरा सवाल है कि मै आजाद कब हूँगा?


inspirational story in hindi for success -इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।
सेठ जी ने कहा ठीक है तुम्हारा सवाल भी पूछ लेंगे।
शाम मे वो लोग पहुचें वहां बाबाजी का सत्संग चल रहा था, सत्संग ख़त्म हुआ, सत्संग ख़त्म होने के बाद सवाल जवाब होना शुरू हुआ।

सेठ जी ने कहा आज मेरा सवाल नहीं है, मेरे तोते का सवाल है
तोता पूछना चाहता है कि वह आजाद कब होगा.?


जैसे ही ये सवाल सेठ जी ने पूछा महाराज जी बेहोश हो गए।
अब बाबाजी के लिए पानी लाया गया उन्हे जैसे तैसे होश आया।
success hone ke liye jarur padhe 


उसके बाद सेठ जी वापस अपने घर पहुचें।

घर पहुचते ही तोते ने पूछा मालिक क्या हुआ?
मेरे सवाल का जवाब मिला।



सेठ जी ने कहा तुम है ही मनहूस, मैंने जैसे ही तेरा सवाल पूछा महाराज जी बेहोश हो गए, जैसे तैसे उन्हे होश आया, तेरा सवाल अब मै दोबारा कभी पूछूँगा ही नहीं।


ये कहकर सेठ जी वहा से चले गए।




अगली शाम फिर से सेठ जी सेठानी जी सत्संग में गए
और जब वापस आकर देखा तो तोता मरा पड़ा है।


उन्होने सोचा कि अरे ये तो बहुत गलत हो गया,
पिंजरे को बाहर ले गए घर के तोते को बाहर निकालने के लिए,
जैसे ही पिंजरा खुला तोता उड़ गया।


सेठ जी को कुछ समझ में नहीं आया।

सेठ जी अगली शाम फिर से सत्संग में पहुचें,

महाराज जी ने सेठ जी से पूछा कि उस तोते का जो सवाल था, हुआ क्या उस तोते का?



तो सेठ जी ने कहा कि तोता तो बड़ा कलाकार निकला,
एक दिन मैंने सोचा कि वो मर गया और मैंने जैसे ही उसे पिंजरे से बाहर निकालने की कोशिश की वह उड़ गया।
inspirational story in hindi for success -इस दुनिया में सब कुछ जानकर भी अनजान बने रहते हैं हम।


महाराज जी ने कहा कि देखो तोता भी मेरे बात को समझ गया लेकिन तुम मेरे पूरे बात को नहीं समझ पाए।
हर शाम तुमलोग यहां आते हो इतनी सारी ग्यान की बातें करते हो लेकिन उसे जिन्दगी मे उतारते नहीं हो


निष्कर्ष :-

बचपन से लेकर अबतक बहुत सारी बातें हमें माँ बाप ने सिखाई है शिक्षक ने सिखायी है हमारे बड़े बुजुर्गो ने सिखायी है लेकिन उसे हम अपनी जिन्दगी मे नही उतारते लेकिन मालूम हमें सब होता है,
हमें मालूम है कि यदि मंजिल तक हमें पहुचना है तो पूरी लगन से काम करना होगा, तभी हम जो चाहते है वो हमें मिलेगा।



story by:=abhi singh author of www.themotivationhandbook.com


pic courtesy by:-pixabay.compexels.com


ye story aapko kaisi lagi please hamein comment me btaaye taki ham future me isse achi achi post de paye

dhanyawaad

Post a Comment

0 Comments