Short moral stories in hindi for class 10-प्यार को हावी ना होने दे।

Short moral stories in hindi for class 10

Short moral stories in hindi for class 10-प्यार को हावी ना होने दे।
Short moral stories in hindi for class 10-pyaar ko haawi na hone de

ज़िन्दगी हमें बहुत कुछ सिखाती है ,कभी हंसाती है तो कभी रुलाती है ,पर हर हाल में जो खुश रहते है जिन्दगी उन्ही के आगे सिर झुकाती है। 

  • कई बार ऐसा होता है की कुछ स्टूडेंट्स किसी के प्यार में पड़कर अपनी लाइफ से खिलवाड़ करते है ,अपनी पढ़ाई लिखाई छोड़ देते है और दिन भर बस उदास से रहते है। 
यदि आपके साथ भी ये हुआ है तो ये moral stories in hindi for class 10 आपके लिए है। 


Moral stories in hindi for class 10 - प्यार को हावी ना होने दे। 


एक कॉलेज में एक मनीष नाम का लड़का पढ़ता था। 


क्लास में उसकी न्यू न्यू एंट्री हुई थी और वह इतना खुश रहता था कि पूरी क्लास उसके वजह से खुश रहती थी। वो बहुत हंसमुख था सबको हँसाता रहता था। 

लेकिन अचानक उसके साथ पता नहीं क्या हुआ कि पिछले 15-20 दिनो से वह उदास रहने लगा।ना ही वो किसी के पास बैठता ना ही किसी से बात करता ,इस वजह से धीरे धीरे उसके दोस्त कम होने लगे। 

उसके क्लास में एक शिक्षक आते थे पढ़ाने जो मनीष को बहुत मानते थे ,उन्होने ये नोटिस किया कि जो मनीष है अजकल बहुत उदास रहता है ,ना वो ठीक से पढ़ाई करता है, ना ही किसी से बात करता है। उन्होने सोचा की मुझे मनीष से बात करनी चाहिए। 

उन्होने मनीष को स्टाफ रूम मे बुलाया और पूछा कि क्या बात है मनीष अजकल तुम बहुत उदास रहने लगे हो तुम्हारे वजह से तो पूरी क्लास खुश रहती थी।अब तुम ही उदास रहने लगे हो ,बताओ मुझे क्या बात है ,किसी तरह की प्रॉब्लम है तो मुझे बताओ। 


मनीष ने बताया कि उसे एक लड़की पसंद आ गयी थी और वो लड़की इसका दिल तोड़के चली गयी इसका लड़ाई हो गया है। 
और अब उसे लग रहा कि जिन्दगी मे कुछ बचा ही नहीं,वह उसको याद कर कर के दिनभर उदास रहता है वह उसे भूल नहीं पाता है ।

शिक्षक को लगा कि मनीष को ये बात समझानी पड़ेगी कि जिन्दगी में खुश कैसे रहना है। उन्होने मनीष को कहा कि तुम मेरे घर आना शाम को मुझे तुमसे कुछ बात करनी है।कॉलेज खत्म हुआ शाम को मनीष शिक्षक के घर पहुँचा।
शिक्षक ने मनीष से पूछा कि तुम लेमन जूस लेना पसंद करोगे?

मनीष ने बोला हां सर। 

शिक्षक जब लेमन जूस बना रहे थे तब गलती से या जान बूझकर उस  लेमन जूस मे नमक ज्यादा डाल दिया ,चीनी थोड़ी कम थी।

वो लेमन जूस लेकर के आये और जैसे ही मनीष को पीने के लिए दिया ,मनीष ने पीते ही अजीब सा मुँह बनाया और बोला कि सर ये क्या बना दिया है आपने?

शिक्षक ने कहा कि तुम कहो तो ये लेमन जूस फेंक देता हूँ और तुम्हें दूसरा बनाकर  के देता हूँ। 

मनीष ने कहा कि सर लेमन जूस को फेंकने की जरूरत क्या है। इसमें नमक ज्यादा हो गया है हम इसमें चीनी डाल देते है ताकि ये पीने लायक हो जाए।शिक्षक ने बोला यही तो मै तुम्हें बताना चाह रहा था  कि तुम्हारी जिन्दगी मे नमक ज्यादा हो गया है ,हम उसे तो कम कर नहीं सकते लेकिन चीनी तो डाल सकते है। 
  • हर किसी की जिन्दगी में ऐसे लम्हे आते है कि हम उन्हे नहीं भूल सकते है ऐसे लम्हें होते है जो बिल्कुल. भी अच्छे नहीं होते ,जो हमारी यादों को कड़वा बना देते है लेकिन हम उन्हे भूल  सकते है  लेकिन  जब हमारी जिन्दगी मे अच्छे लम्हे आ जाये। 

Moral stories in hindi से सीख -

कोशिश किजिये कि अच्छे लम्हों को  जोड़ा जाए,पुराने लम्हें बुरे लम्हें जिन्हे याद करने पर आपको दर्द होता है,उन्हे याद करने पर आपको कुछ नहीं मिलेगा। 
जिन्दगी मे नमक ज्यादा है थोड़ी चीनी मिलाइए। 

आपको ये short moral stories in hindi for class 10 कैसी लगी मुझे कमेंट करके बताए। 


Post a Comment

0Comments