Moral stories for childrens in hindi - हमारे दुश्मन ही हमारे दोस्त हैं।

Moral stories for childrens in hindi

Moral stories for childrens in hindi - हमारे दुश्मन ही हमारे दोस्त हैं।
  • कई बार ऐसा होता है कि हम अपने शुभचिंतक को सही से पहचान नहीं पाते और उन्हे बुरा समझने लगते हैं यदि आपके साथ भी ये होता है तो ये कहानी आपके लिए है।
  • कई बार हम अपनी जिंदगी में नासमझी और अपने बचपने की वजह से कई बड़ी चीजों को हम समझ ही नहीं पाते, और जब समझते हैं तब तक काफी देर हो चुकी होती है।

शीर्षक:-हमारे दुश्मन ही हमारे दोस्त होते हैं।

Moral stories for childrens in hindi - हमारे दुश्मन ही हमारे दोस्त हैं।

एक बार एक केकड़ा समुद्र में डूब रहा था तभी एक तेज लहर आई और उसे बहाकर समुद्र के किनारे पटक दिया यह देखकर केकड़ा जो है समुद्र की लहर को धन्यवाद बोला और समुद्र के किनारे आगे बढ़ा चला जा रहा था।

वह बार बार पीछे मुड़कर अपने सुंदर पैरों के निशान देखता और बहुत खुश होता।


और आगे बढ़ता  और फिर मुड़कर अपने पैरों के निशान देखता था।
अपने छोटे छोटे पैरों के आकृतियों के निशान को देखता और बहुत खुश होता।
आगे जा ही रहा था इतने में एक बड़ी लहर आई और उसके सारे पैरों के निशान मिटा दिए।

उसे बहुत गुस्सा आया उसने कहा कि ए लहर मैं तुझे अपना दोस्त मानता था लेकिन यह क्या तुमने तो मेरे सारे पैरों के निशान एक ही झटके में मिटा दिए।

अब से तुम मेरे दोस्त नहीं हो और उस पर चिल्लाने लगा।
लहर मुस्कुराए और उसकी तरफ देखकर बोला पीछे देखो सारे मछुआरे पैरों के निशान को देख करके केकड़ो को पकड़ रहे हैं, मैंने तुम्हारे सारे पैरों के निशान मिटा दिए ताकि वह तुम्हें पकड़ ना सके।

केकड़े ने ये बात सुनी और उसे बहुत बुरा लगा उसे अपने आप पर पछतावा होने लगा कि जिसे मै अपना दुश्मन समझता था वही मेरा दोस्त निकला।


सीख :-


  • आपकी जिंदगी में भी आपके माता-पिता या दोस्त आपके शुभचिंतक हैं जो कभी ना कभी कहीं ना कहीं इसी प्रकार की चीजें करते हैं आपके लिए, लेकिन उस वक्त वह बात आपको गलत लगती है आपको लगता है कि उन्होंने आप के साथ गलत किया आप एक बार सोच कर देखिए वह गलत नहीं है आपकी भलाई के लिए वह कुछ ऐसा कर रहे हैं जो आप समझ नहीं पा रहे हैं लेकिन जिस दिन आप समझ जाएंगे उस दिन वह आपको बहुत अच्छे लगेंगे।

आशा करता हूँ कि आपको Moral stories for childrens in hindi बहुत अच्छी लगी होगी आप सोचिए कि आपके जीवन में आपका वह शुभचिंतक कौन है।

कहानी अच्छी लगी हो तो हमे कमेंट करके बताए और ज्यादा से ज्यादा शेयर करे  

Post a Comment

0Comments