Moral stories in hindi for class 8-सपने देखना मत छोरना।

Moral stories in hindi for class 8

Moral stories in hindi for class 8-सपने देखना मत छोरना।
सपने दिखाने वाले तो हज़ारों मिलेलेकिन जो करदे मेरे अधूरे सपनों को पूरा वो हमदर्द न मिला
मशीहा तो बस कल्पनाओं में होते हैं,
दरिंदे तो गली गली मिल जाते हैं। 

  • इस दुनिया में हर कोई सपने देखता है छोटे सपने देखता है कोई बड़े सपने देखता है जो लोग बड़े सपने देखते हैं लोग उनका मजाक उड़ाते हैं।यदि आप भी उनमें से हैं जो लोग बड़े सपने देखते हैं और लोग आपका मजाक उड़ाते हैं, तो यह कहानी आपके लिए है।



Moral stories in hindi for class 8:- सपने देखना मत छोरना।  

Moral stories in hindi for class 8-सपने देखना मत छोरना।
एक बार की बात है एक बच्चा सरकारी स्कूल में पढ़ाई किया करता था और उसके जो पापा थे एक अमीर सेठ के यहां नौकर थे। 

बच्चा कभी-कभी पापा के साथ जाता था और देखता था कि पापा क्या काम कर रहे हैं।



पापा जो है वह बड़ी बड़ी गाड़ियों को साफ करते थे। 
उसे यह देख कर बुरा लगता था, बच्चा सोचता था कि 1 दिन ऐसा है कि पापा उन गाड़ियों को साफ न करें बल्कि वो उन गाड़ियों मे बैठे।1 दिन उसके स्कूल के शिक्षक ने कहा कि सब बच्चों को अपने सपने पर एक निबंध लिखना है।

सब ने अपने अपने सपनों को लिखा इस बच्चे ने भी अपने सपनों को लिखा और अगले दिन शिक्षक को कॉपी सबमिट करने के लिए गया।

टीचर ने जब रिजल्ट सब को बताया तो सभी बच्चों को अच्छे नंबर से पास किया लेकिन इस बच्चे को फेल कर दिया।बच्चे को समझ नहीं आया हुआ क्या।

वो गया टीचर के पास और पूछा कि मुझसे क्या खता हो गई जो आपने मुझे फेल कर दिया।


शिक्षक ने बताया कि तुम अपने बस का कुछ लिखते, तुमने ऐसा लिख दिया जो कि कभी पूरा हो ही नहीं सकता तुम खुद की हालत देखो तुमने लिखा कि बड़ी-बड़ी गाड़ियां होंगे बड़ा महल होगा।

चलो तुम्हें एक मौका और देता हूं तुम घर जाओ और फिर से अपने सपने पर निबंध लिखकर लाना और इस बार अपने बस का लिखना जो तुमसे पूरा हो सके।

बच्चा गया घर और फिर सोचा कि क्या लेकिन उसे कुछ समझ नहीं आया, उसने रात में सोने के भी पहले सोचा लेकिन क्या फायदा बच्चे के दिमाग में तो वही सपना बार-बार चल रहा था, पापा उन गाड़ियों में बैठेंगे इतना बड़ा महल होगा बड़ी-बड़ी गाड़ियां होंगी।

अगली सुबह बच्चा शिक्षक के पास गया और बोला कि सर आपको फ़ेल करना है तो कर दो मेरा सपना नहीं बदलने वाला मेरा सपना वही रहेगा जो मैंने देखा है। टीचर ने कहा जो मर्जी तुम्हारी और फेल कर दिया।

बहुत सालों के बाद एक ऑडिटोरियम में एक आदमी अपने सक्सेस की कहानियां सुना रहा था और यही टीचर जिनकी उम्र ढल चुकी थी नीचे बैठे हुए थे और उसके सक्सेस की कहानी सुन रहे थे। 
Moral stories in hindi for class 8-सपने देखना मत छोरना।

स्पीच खत्म होने पर वह व्यक्ति नीचे आया और अपने शिक्षक के पैर छूकर बोला कि सर में वही बच्चा हूं जिसके सपने लिखने पर अपने फेल कर दिया था।



निष्कर्ष :-

यह छोटी सी कहानी हमें बताती है कि 
जिंदगी में कुछ भी नामुमकिन नहीं है बशर्ते आप बड़ा सपना देखें और उनको पूरा करने में अपना पूरा प्रयास लगाएं। जो सपने देखता है वही उन्हे पूरा भी करता है।


  • सपने बड़े हो या छोटे आप उन्हे देखिए और उनको पूरा करने मे पूरे मन से लग जाइये। सपने सिर्फ़ देखकर पूरा नहीं किया जा सकता है उनको पूरा करने के लिए आप अपना पूरा प्रयास लगा दे तभी आप उन्हे पूरा कर पाएंगे  
यदि आप लोगों को यह moral stories in hindi for class 8 अच्छी लगी हो तो हमें कमेंट करके बताए और इस कहानी को अपने class 8 के ग्रुप मे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे। 


Post a Comment

0Comments