Moral stories in Hindi for class 4- जादुई बर्तन।

Moral stories in Hindi for class 4


अगर आप moral stories in Hindi for class 4 की तलाश में हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर आ गए हैं  आज मैं आपको एक Moral stories in hindi for class 4 की कहानी के बारे में बताने जा रहा हूँ जो आपको बहुत कुछ सीख देगी।


जादुई बर्तन 

Moral stories in Hindi for class 4- जादुई बर्तन
एक बार की बात है एक गाँव में एक किसान रहता था। वह प्रतिदिन अपने खेत में जाता था और अपने खेत के कार्यों को करता था। एक दिन वह मानसून के दिनो में बीज बोने के लिए खेत की खुदाई कर रहा था। अचानक खुदाई करते हुए उसका फावड़ा जोड़ से जाकर किसी चीज पर लगा। फिर उसने उस जगह पर खोदना शुरू किया तब जाके उन्हें खेत में एक बड़ा बर्तन मिला।

उसने बर्तन को बाहर निकाल लिया लेकिन उसे पता नहीं चल रहा था कि वह बर्तन किस लिए उपयोगी होगा इसलिए उसने बस उस बर्तन को बगल में रख दिया और फिर से अपने काम में लग गया। जब दोपहर हुई तो किसान भोजन करने लगा। भोजन करते हुए गलती से उसका चम्मच  उस बर्तन में गिर गया।

जब किसान ने अपना दोपहर का भोजन समाप्त किया और चम्मच को उठाने गया तो उसने देखा कि बर्तन में 100 चम्मच हो गए था, वह वास्तव में आश्चर्यचकित था कि उसने खुद को सोचा "मैं सौ चम्मच नहीं लाया था" सिर्फ एक चम्मच लाया, एक चम्मच 100 चम्मच में कैसे बदल सकता है। मुझे समझ में नहीं आता है कि यह बर्तन जादुई बर्तन होना चाहिए।

जादुई बर्तन को फिर से चेक करने के लिए किसान ने एक एकल पत्थर को उस बर्तन में डाल दिया और कुछ देर के बाद उसने देखा कि उसमें 100 पत्थर हो गए हैं। जब उसने यह महसूस किया गया कि बर्तन जादुई था, तो उसने वह बर्तन को वापस घर ले आया और चुपके से रख दिया।

उसके बाद से उसने अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए बर्तन का इस्तेमाल किया। जब भी उसे कोई कपड़ा चाहिए होता तो वह एक टुकड़ा डाल देता और फिर कपड़े के लिए उसे पर्याप्त कपड़ा मिल जाता। जब भी उसे भूख लगती थी, वह उस बर्तन में एक फल रखता था और वह 100 फलों में बदल जाता था।
इस तरह धीरे-धीरे वह किसान अमीर बनने लगा लेकिन  लेकिन वह किसान एक ईमानदार किसान था उसने अपने लालच को संतुष्ट करने के लिए उस जादू के बर्तन का इस्तेमाल कभी नहीं किया वह लालची किसान नहीं था।  हालाँकि उनके पड़ोस ने देखा कि यह किसान हर दिन अमीर हो रहा है।


Moral stories in Hindi for class 4- जादुई बर्तन

उसी गांव में एक और लालची व्यक्ति रहता था इसलिए उसने उसकी समृद्धि के रहस्य का पता लगाने की कोशिश की। एक दिन वह लालची व्यक्ति खिड़की के बाहर  छुप कर देखने लगा कि किसान क्या कर रहा है, उस समय किसान उस बर्तन में दूध का छोटा चम्मच डाला और उस बर्तन से एक लीटर दूध निकाला। 

यह देखकर उस लालची व्यक्ति को सारा खेल समझ आ गया, वह समझ चुका था कि सारा खेल उस जादुई बर्तन का है ।  वह समझ गया था कि वह बर्तन उसे सारी समृद्धि दे रहा है इसलिए इस दुष्ट पड़ोसी ने उस किसान से उस बर्तन को चोरी करने का फैसला किया। 



एक रात जब वह किसान सो रहा था तब उस लालची व्यक्ति ने उस किसान के घर से उस बर्तन को वापस अपने घर ले आया । वह जादुई बर्तन के जादू का पता लगाने के लिए बहुत उत्सुक था लेकिन इससे पहले कि वह यह पता लगाना चाहता था कि जादुई बर्तन के अंदर कुछ है या नहीं इसलिए उसने जादुई बर्तन में अपना हाथ डाल दिया, लेकिन जाहिर है कि जादुई बर्तन में कुछ भी नहीं था।

जब उसने अपना हाथ बाहर निकाला तो उसे आश्चर्य हुआ कि अब उसके शरीर में 100 हाथ हैं।  वह डर गया, क्योंकि वह नहीं जानता था कि उन सौ हाथों को एक बार फिर से वापस कैसे लाया जाए। अगले दिन जब वह अपने घर से बाहर आया तो लोग डर गया और उन्होंने सोचा कि वह किसी तरह का दानव है। इसलिए गांव वालों ने उसे अपने गाँव से भगा दिया। जब ईमानदार किसान को यह सब पता चला तो उसने भगवान को धन्यवाद दिया। 


कहानी से सीख -

इस कहानी से हमें पता चला कि हमें किसी की चीज़ नहीं चुरानी चाहिए और हमें लालच नहीं करना चाहिए। 


Stories in Hindi for class 6 का शीर्षक-बोलने के पहले दो बार सोचे।
Moral stories in Hindi for class 9 - खुश होने के रास्ते खोजिए।
Moral stories in Hindi for class 8-सपने देखना मत छोरना।
Hindi story for class 1 - आपकी जिन्दगी कभी भी बदल सकती है।
Hindi story for class 2-हम सब अपनी कहानी के हीरो है।
Moral stories in Hindi for class 9 - समय बहुत बलवान है। 
Best moral stories in Hindi for class 7 - सपने देखो और उन्हे पूरा करो।
Moral stories in Hindi for class 7-शिक्षक और 9 की टेबल।
Short moral stories in Hindi for class 10-प्यार को हावी ना होने दे।



आशा करता हूँ कि आपको यह moral stories in Hindi for class 4 अच्छी लगी हो इसी तरह की कहानीयों को पढ़ने के लिए हमारे वेबसाइट से जुड़े रहे। 

Post a Comment

0Comments